ई-जनगणना 2022-23: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, E- Census एप्लीकेशन फॉर्म, व Janganana List

E- janganana Online Registration | ई-जनगणना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | ई-जनगणना एप्लीकेशन फॉर्म | E- Census Application Status | Janaganana List 2022

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं सरकार द्वारा सभी सरकारी सेवाओं एवं प्रक्रियाओं का डिजिटलीकरण किया जा रहा है। सरकार द्वारा अब जनगणना को भी डिजिटल माध्यम से करने का निर्णय लिया गया है। जिसके लिए सरकार द्वारा ई जनगणना योजना लांच की गई है। इस लेख के माध्यम से आपको ई जनगणना स्कीम का पूरा ब्यौरा प्राप्त होगा। आप इस लेख को पढ़कर ई जनगणना योजना 2022 का उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन करने की प्रक्रिया आदि से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। तो यदि आप ई जनगणना योजना 2022-23 का पूरा ब्यौरा प्राप्त करने में रुचि रखते हैं तो आपसे निवेदन है कि आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े।

E- Census 2022-23

गृह मंत्री अमित शाह द्वारा जनगणना को लेकर एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। भारत सरकार द्वारा जनगणना को अब तकनीक से जोड़ा जाएगा। अब सरकार द्वारा ई-जनगणना की जाएगी। जो कि डिजिटल माध्यम से होगी। साल 2024 तक प्रत्येक जन्म और मृत्यु को जनगणना से जोड़ दिया जाएगा। जिससे कि जनगणना का काम ऑटोमेटिक तरीके से अपडेट हो जाएगा। जनगणना करने के लिए सरकार द्वारा एक सॉफ्टवेयर लॉन्च किया जाएगा। डिजिटल माध्यम से जनगणना करने से अगले 25 वर्षों तक के लिए नीतियां बनाई जा सकेंगी। भारत में प्रत्येक 10 साल में जनगणना की जाती है।

आखिरी बार यह जनगणना वर्ष 2011 में की गई थी। वर्ष 2021 में जनगणना होनी थी लेकिन कोरोनावायरस संक्रमण के कारण यह कार्य नहीं हुआ। सरकार द्वारा ई जनगणना करने की घोषणा आसाम में डायरेक्टरेट ऑफ सेंसस ऑपरेशन बिल्डिंग का उद्घाटन करते समय गृह मंत्री अमित शाह जी के द्वारा किया गया। सरकार द्वारा विभिन्न सरकारी विभागों से इस जनगणना के कार्य में मदद ली जाएगी। देश के लगभग 50% नागरिक मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से खुद क्वेश्चन का जवाब दे सकते हैं। जिससे जनगणना करने में मदद प्राप्त होगी।

ई-जनगणना

ई – जनगणना का उद्देश्य

ई जनगणना का मुख्य उद्देश्य डिजिटल माध्यम से जनगणना कराना है। जिससे कि ई जनगणना सरल तरीके से कराई जा सके। अब सरकारी कर्मचारियों को जनगणना करने के लिए घर घर जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। देश के नागरिक खुद अपने स्मार्टफोन के माध्यम से जनगणना कर सकेंगे। इससे समय और पैसे दोनों की बचत होगी तथा प्रणाली में पारदर्शिता भी सुनिश्चित की जा सकेगी। यह योजना देश के नागरिकों के जीवन स्तर को सुधारने में कारगर साबित होगी। इसके अलावा इस योजना के माध्यम से देश के नागरिक सशक्त एवं आत्मनिर्भर भी बनेंगे।

 Key Highlights Of E- Janganana

योजना का नाम ई-जनगणना
किसने आरंभ की भारत सरकार
लाभार्थी भारत के नागरिक
उद्देश्य डिजिटल माध्यम से जनगणना करना
आधिकारिक वेबसाइट जल्द लॉन्च की जाएगी
साल 2022

ई – जनगणना के लाभ तथा विशेषताएं

  • गृह मंत्री अमित शाह द्वारा जनगणना को लेकर एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है।
  • भारत सरकार द्वारा जनगणना को अब तकनीक से जोड़ा जाएगा।
  • अब सरकार द्वारा ई जनगणना की जाएगी।
  • जो कि डिजिटल माध्यम से होगी।
  • साल 2024 तक प्रत्येक जन्म और मृत्यु को जनगणना से जोड़ दिया जाएगा।
  • जिससे कि जनगणना का काम ऑटोमेटिक तरीके से अपडेट हो जाएगा।
  • जनगणना करने के लिए सरकार द्वारा एक सॉफ्टवेयर लॉन्च किया जाएगा।
  • डिजिटल माध्यम से जनगणना करने से अगले 25 वर्षों तक के लिए नीतियां बनाई जा सकेंगी।
  • सरकार द्वारा ई जनगणना करने की घोषणा आसाम में डायरेक्टरेट ऑफ सेंसस ऑपरेशन बिल्डिंग का उद्घाटन करते समय गृह मंत्री अमित शाह जी के द्वारा किया गया।
  • सरकार द्वारा विभिन्न सरकारी विभागों से इस जनगणना के कार्य में मदद ली जाएगी।
  • देश के लगभग 50% नागरिक मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से खुद क्वेश्चन का जवाब दे सकते हैं।
  • जिससे जनगणना करने में मदद प्राप्त होगी।

पात्रता तथा महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आवेदक भारत का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • आयु का प्रमाण
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी आदि।

ई-जनगणना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

अभी सरकार द्वारा केवल ई जनगणना करने की घोषणा की गई है। जल्द सरकार द्वारा इसके लिए आधिकारिक वेबसाइट एवं मोबाइल एप लांच किया जाएगा। जैसे ही सरकार ई जनगणना के अंतर्गत आवेदन से संबंधित कोई भी जानकारी प्रदान करती है हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से जरूर बताएंगे। तो आप से निवेदन है कि आप हमारे इस लेख से जुड़े रहे।

close button

Leave a Comment