मई में खुदरा महंगाई दर 7.04 फीसदी रही

 

सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, अनुकूल आधार प्रभाव के कारण भारत की प्रमुख खुदरा मुद्रास्फीति दर अप्रैल के करीब आठ साल के उच्च स्तर 7.79 प्रतिशत से घटकर मई में 7.04 प्रतिशत हो गई। मई में मुद्रास्फीति में गिरावट से भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की दर वृद्धि चक्र को धीमा करने के लिए बहुत कुछ करने की संभावना नहीं है। उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित मुद्रास्फीति अप्रैल में 7.79 प्रतिशत थी। मई 2021 में खुदरा महंगाई दर 6.3 फीसदी थी।

डाउनलोड करें मई 2022 के महत्वपूर्ण करेंट अफेयर्स प्रश्नोत्तर की PDF, Download Free PDF in Hindi

हिन्दू रिव्यू मई 2022, डाउनलोड करें मंथली करेंट अफेयर PDF (Download Hindu Monthly Current Affair PDF in Hindi)

महत्वपूर्ण बिंदु:

  • इस बीच, ईंधन से लेकर सब्जियों और खाना पकाने के तेल तक सभी वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि ने थोक मूल्य मुद्रास्फीति को अप्रैल में 15.08 प्रतिशत के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर धकेल दिया और खुदरा मुद्रास्फीति आठ साल के उच्च स्तर 7.79 प्रतिशत पर पहुंच गई।
  • उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) द्वारा ट्रैक की गई खुदरा मुद्रास्फीति खुदरा खरीदार के दृष्टिकोण से कीमतों में बदलाव को मापती है।
  • रिजर्व बैंक, जो अपनी मौद्रिक नीति में सीपीआई को शामिल करता है, ने इस महीने की शुरुआत में चालू वित्त वर्ष के लिए मुद्रास्फीति के अनुमान को 5.7 प्रतिशत के अपने पिछले अनुमान से बढ़ाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया था।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

Find More News on Economy Here

EASE 5.0 'Common Reforms Agenda' launched by Nirmala Sitharaman_80.1

close button

Leave a Comment