Todays Hindi Current Affairs/ News Headlines : 05 Feb 2020

NOTE : यूपीएससी, एसएससी, बैंक, रेलवे सहित केंद्र एबं राज्य सरकारों द्वारा आयोजित सभी प्रतियोगिता परीक्षा के लिए उपयोगी

दिन के शीर्ष करंट अफेयर्स: 05 फरवरी 2020. तुरंत सभी आवश्यक जानकारी के साथ नवीनतम करेंट अफेयर्स प्राप्त करें, आज के सभी मौजूदा मामलों को जानने के लिए पहले बनें 05 फरवरी 2020 शीर्ष समाचार, प्रमुख मुद्दे, वर्तमान समाचार, राष्ट्रीय वर्तमान समाचारों में महत्वपूर्ण घटनाएं स्पष्ट स्पष्टीकरण के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं और साक्षात्कारों के लिए, अपने आप को नवीनतम करंट अफेयर्स 05 फरवरी 2020 से सुसज्जित करें।

hindi current affairs

सामयिकी मुख्य समाचार/ NEWS HEADLINES

1. राष्ट्रपति भवन में किया गया उद्यानोत्सव का उद्घाटन

4 फरवरी, 2020 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में उद्यानोत्सव का उद्घाटन किया। इसके तहत  मुग़ल गार्डन 5 फरवरी, 2020 से 8 मार्च, 2020 तक सभी के लिए खुले रहेंगे।

मुख्य बिंदु

उद्यानोत्सव 2020 के मुख्य आकर्षण सुन्दर फूल तथा ट्यूलिप्स इत्यादि होंगे। मुग़ल गार्डन की यात्रा करने के लिए राष्ट्रपति भवन की वेबसाइट पर ऑनलाइन बुकिंग की जा सकती है।

मुग़ल गार्डन

मुग़ल गार्डन का निर्माण फ़ारसी शैली में किया गया है, यह चारबाग संरचना से प्रभावित है। चारबाग़ बाग़ की चतुष्कोणीय संरचना है जिसका वर्णन कुरान में किया गया है। इस प्रकार के बाग़ के प्रमुख उदारण ईरान में चारबाग़-ए-अब्बासी और भारत में ताज महल है।

राष्ट्रपति भवन

भारत का राष्ट्रपति भवन विश्व के किसी राष्ट्र प्रमुख का सबसे बड़ा निवास स्थान है। इसके निर्माण के लिए फोर्ट विलियम के गवर्नर जनरल द्वारा आदेश दिया गया था। इसका निर्माण 1799 से 1803 के बीच किया गया था।

2. Soil Health Card के उपयोग से उर्वरक के उपयोग में 10% की कमी आई : राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद्

राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद् द्वारा किये गये एक अध्ययन के अनुसार देश में Soil Health Card के उपयोग से उर्वरक के उपयोग में 10% की कमी आई है। इस अध्ययन से यह भी ज्ञात हुआ है कि साइल कार्ड के कारण उत्पादकता में 5-6% की वृद्धि हुई है। साइल कार्ड योजना में मिट्टी में कम हो रहे पोषक तत्वों की समस्या पर फोकस किया जाता है।

साइल हेल्थ कार्ड्स (Soil Health Card)

केंद्र सरकार ने 2014-15 में साइल हेल्थ कार्ड योजना शुरू की थी। 2015-17 के दौरान 10.74 करोड़ साइल हेल्थ कार्ड जारी किये गये। जबकि 2017-19 के दौरान 11.69 करोड़ हेल्थ कार्ड जारी किये गये।

आदर्श गावों का विकास (Development of Model Villages)

वित्त वर्ष 2019 में आदर्श गावों के विकास के लिए योजना का क्रियान्वयन किया जा रहा है। इस योजना के तहत कृषि योग्य भूमि की जांच की जायेगी। अब तक इस योजना के तहत 2019-20 में 13.53 लाख साइल हेल्थ कार्ड जारी किये गये हैं। इसके मृदा स्वास्थ्य प्रयोगशालाएं बनायी गयी हैं। इस योजना में अब तक 102 मोबाइल लैब, 429 स्थैतिक प्रयोगशालाओं , 1,562 ग्रामीण स्तरीय प्रयोग शालाओं तथा 8,752 छोटी प्रयोगशालाओं को मंज़ूरी दी जा चुकी है।

3. DefExpo 2020 : उत्तर प्रदेश सरकार करेगी 23 ज्ञापन समझौतों पर हस्ताक्षर, राज्य में होगा 3 लाख नौकरियों का सृजन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लखनऊ में DefExpo 2020 का उद्घाटन किया गया। इस इवेंट के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार 23 ज्ञापन समझौतों पर हस्ताक्षर करेगी। इन समझौतों से राज्य में 50,000 करोड़ रुपये का निवेश आएगा, इससे राज्य में तीन लाख नौकरी के अवसर प्राप्त होंगे।

DefExpo का उद्देश्य भारत को स्टार्टअप इंडिया, स्किल इंडिया और मेक इन इंडिया जैसी पहलों के द्वारा टेक्नोलॉजी का पॉवर हाउस बनाना है।

भारत में रक्षा उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार ने कई कदम उठाये हैं। सरकार ने प्रत्यक्ष मार्ग के द्वारा प्रत्यक्ष विदेश निवेश को 49% किया है, जबकि सरकारी मार्ग के द्वारा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश सीमा को 100%  कर दिया गया है।

DefExpo India – 2020

इस चार दिवसीय इवेंट में भारतीय रक्षा उद्योग को अपनी क्षमता प्रदर्शित करने का मौका मिलेगा, इससे निर्यात को भी बढ़ावा मिलेगा। DefExpo India – 2020 की थीम “भारत – रक्षा विनिर्माण का उभरता हुआ हब” है। इस प्रदर्शनी का फोकस रक्षा क्षेत्र का डिजिटल परिवर्तन है। इस प्रदर्शनी में उत्तर प्रदेश को रक्षा क्षेत्र में निवेश के लिए उपयुक्त स्थान के रूप में प्रस्तुत किया जायेगा। इस DefExpo के द्वारा विदेशी उपकरण निर्माताओं को भारतीय रक्षा उद्योग के साथ मिलकर कार्य करने का मौका मिलेगा, इससे मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा।

4. DefExpo 2020 : अगले पांच वर्षों में भारत ने रक्षा क्षेत्र को 5 अरब डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 11वें DefExpo (रक्षा प्रदर्शनी) का उद्घाटन 5 फरवरी, 2020 को किया। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में घोषणा की कि भारत ने अगले पांच वर्षों में रक्षा क्षेत्र को 5 अरब डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है।

मुख्य बिंदु

DefExpo में भारत ने स्पष्ट किया है कि अगले पांच वर्षों में देश में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित 25 उत्पादों का विकास किया जाएगा। भारत का रूझान ‘असेम्बल इन इंडिया’ से बढ़कर ‘मेक इन इंडिया’ की तरफ बढ़ रहा है। DefExpo के दौरान एक नया नारा शुरू किया गया है : ‘भारत में निर्मित करो, भारत के लिए और विश्व के लिए’ (Make in India, for India and for the world)। ‘असेम्बल इन इंडिया’ के तहत विदेशों से कच्चा माल आयात करके असेम्बलिंग की जाती है और तैयार माल को विश्व के विभिन्न देशों में बेचा जाता है।

भारत ने अगले पांच वर्षों में 35,000 करोड़ रुपये के उत्पादों के निर्यात का लक्ष्य रखा है। भारत रक्षा क्षेत्र को 5 अरब डॉलर तक पहुंचाने में सक्षम है। पिछले दो वर्ष में भारत का रक्षा निर्यात बढ़कर 17,000 करोड़ रुपये हो गया है।

5. भारत और दक्षिण कोरिया के बीच द्विपक्षीय रक्षा सहयोग के लिए बैठक का आयोजन किया गया

4 जनवरी, 2020 को भारत और दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रियों के बीच रक्षा उद्योग, अनुसन्धान व विकास के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ावा देने के लिए बैठक का आयोजन किया गया।

मुख्य बिंदु

भारत और दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रियों की इस बैठक में रक्षा उद्योग से सम्बंधित पहलुओं पर चर्चा की गयी। इस दौरान तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश में रक्षा औद्योगिक गलियारे में निवेश पर भी चर्चा की गयी।

रक्षा औद्योगिक गलियारे

भारत सरकार ने उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में रक्षा औद्योगिक गलियारे स्थापित किये हैं। इन गलियारों का उद्देश्य देश के रक्षा उत्पादन को बढ़ावा देना है। इन गलियारों के द्वारा विभिन्न रक्षा औद्योगिक इकाइयों के बीच बेहतर कनेक्टिविटी भी सुनिश्चित की जा सकती है।

उत्तर प्रदेश रक्षा गलियारे के द्वारा कानपूर, लखनऊ, आगरा, चित्रकूट, झाँसी और अलीगढ 6 शहरों को आपस में जोड़ा जाएगा। जबकि तमिलनाडु गलियारे में पांच शहरों होसुर, सालेम, चेन्नई, त्रिची और कोइम्बतुर को जोड़ा जाएगा।

महत्व

चीन सागर में दक्षिण कोरिया की महत्वपूर्ण स्थिति के कारण भारत के सम्बन्ध दक्षिण कोरिया के साथ मज़बूत होने आवश्यक है। भारत दक्षिण कोरिया के साथ मिलकर बेहतरीन सैन्य हार्डवेयर का निर्माण कर रहा है।

6. चेन्नई में किया जाएगा समुद्री सहयोग पर चौथे पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन का आयोजन

विदेश मंत्रालय द्वारा 6-7 फरवरी के दौरान समुद्री  सहयोग पर चौथे पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। इस सम्मेलन का आयोजन चौथी  बार भारत में किया जा रहा है।  इस सम्मेलन का आयोजन दिल्ली में 2015 में किया गया था। उसके बाद 2016 में गोवा, 2018 में भुबनेश्वर में इस सम्मेलन का आयोजन किया गया। 2019 में इस सम्मेलन का आयोजन थाईलैंड के बैंकाक में किया गया था।

मुख्य बिंदु

इस सम्मेलन का आयोजन ऑस्ट्रेलिया और इंडोनेशिया की सरकारों के सहयोग के साथ किया जा रहा है। इस सम्मेलन में 100 से अधिक प्रतिभागी हिस्सा लेंगे। इस सम्मेलन से समावेशी दृष्टिकोण पर बल दिया जाएगा। 14वें पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने हिन्द-प्रशांत समुद्री पहल पर बल दिया था।

इस शिखर सम्मेलन का आयोजन पूर्वी एशिया, दक्षिण एशिया तथा दक्षिण पूर्व एशिया  के 16 देशों द्वारा वार्षिक रूप से किया जाता है। पहली बार इस शिखर सम्मेलन का आयोजन 2005 में कुआलालंपुर में किया गया था। रूस और अमेरिका भी इस शिखर सम्मेलन से जुड़े हुए हैं।

7. तमिलनाडु में की गयी L&T MBDA मिसाइल सिस्टम्स फैसिलिटी की स्थापना

L&T MBDA मिसाइल सिस्टम्स (LTMMSL) ने हाल ही तमिलनाडु के कोइम्बतूर शहर में मिसाइल एकीकरण फैसिलिटी की स्थापना की है। LTMMSL लार्सेन एंड टुब्रो तथा यूरोपीय रक्षा कंपनी MBDA के बीच जॉइंट वेंचर है। यह फैसिलिटी 16,000 स्क्वायर मीटर क्षेत्र में फैली हुई है। इसका निर्माण स्पेशल इकनोमिक जोन में किया गया है, इसमें घरेलु तथा वैश्विक बाज़ार के लिए हथियार निर्मित किये जायेंगे। इस जॉइंट वेंचर में L&T की हिस्सेदारी है, जबकि शेष 49% हिस्सेदारी MBDA की है।

MBDA

MBDA एक मिसाइल निर्माता कंपनी है। इसका गठन दिसम्बर, 2001 में एयरबस, लियोनार्दो और BAE सिस्टम्स के गाइडेड मिसाइल डिवीज़न के विलय के द्वारा किया गया था। इसकी 37.5% हिस्सेदारी एयरबस और  BAE सिस्टम्स के पास है, जबकि 25% हिस्सेदारी लियोनार्दो के पास है।

MBDA के उत्पाद

हवा से हवा में मार कर सकने वाली मिसाइलें  : ASRAAM, Meteor, MICA

सतह से हवा में मार कर सकने वाली मिसाइलें  : मिस्ट्रल, यूरोसैम एस्टर, LFK NG, रेपिएर, सी वुल्फ, CAMM

हवा  से सतह पर मार कर सकने वाली मिसाइलें  : अपाचे, ब्रिमस्टोन, स्टॉर्म शैडो, वाईपर स्ट्राइक, AS-30 L, PGM 500, ASMPA

8. शक्तिकांत दास को ‘सेंट्रल बैंकर ऑफ़ द ईयर (एशिया-पैसिफिक 2020)’ चुना गया

बैंकर मैगज़ीन ने भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास को ‘सेंट्रल बैंकर ऑफ़ द ईयर (एशिया-पैसिफिक 2020)’ चुना। जबकि ‘ग्लोबल सेंट्रल बैंकर ऑफ़ द ईयर’ अवार्ड नेशनल बैंक ऑफ़ सर्बिया के जोर्गोवंका ताबाकोवी को प्रदान किया गया। यह पुरस्कार उन बैंकर्स को प्रदान किया जाता है जो आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। शक्तिकांत दास ने गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी संकट तथा भारतीय बैंकों के NPA जैसे कई पहलुओं पर सराहनीय कार्य किया है।

शक्तिकांत दास

शक्तिकांत दास वर्तमान में भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर हैं।   शक्तिकांत दास आर्थिक मामले विभाग के पूर्व सचिव हैं। वे मई, 2017 में आर्थिक मामले सचिव के रूप में सेवानिवृत्त हुए थे। वे 1980 बैच के तमिलनाडु कैडर के आईएएस अफसर हैं।

भारतीय रिजर्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक भारत का केन्द्रीय बैंक है। यह भारत के सभी बैंकों का संचालक है। रिजर्व बैक भारत की अर्थव्यवस्था को नियन्त्रित करता है। 1 अप्रैल, 1935 को इसकी स्थापना रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया अधिनियम, 1934 के अनुसार हुई थी।

9. 2040 तक कैंसर के मामलों में 81% की वृद्धि होगी : विश्व स्वास्थ्य संगठन

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस के अवसर पर एक रिपोर्ट जारी की। इस रिपोर्ट के मुताबिक 2040 तक निम्न तथा मध्यम आय वर्गीय देशों में कैंसर के मामलों में 81% की वृद्धि होने के आसार हैं। 2040 तक वैश्विक स्तर पर कैंसर के मामलों में 60% की वृद्धि होने के आसार हैं। इस रिपोर्ट के अनुसार अगले दशक में कैंसर से 7 मिलियन लोगों की जान बचाने के लिए 25 अरब डॉलर के निवेश की आवश्यकता है। कैंसर के कारण होने वाली 25% मौतों का कारण केवल तम्बाकू है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन

विश्व स्वास्थ्य संगठन स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं पर आपसी सहयोग एवं मानक विकसित करने वाली संस्था है। यह संयुक्त राष्ट्र संघ की एक अनुषांगिक इकाई है। इसकी स्थापना 7 अप्रैल 1948 को की गयी थी। इसके 193 सदस्य देश तथा दो संबद्ध सदस्य हैं। इसका उद्देश्य विश्व के लोगो के स्वास्थ्य का स्तर ऊँचा करना है। स्विटजरलैंड के जेनेवा शहर में इसका मुख्यालय स्थित है। भारत भी इसका सदस्य देश है भारत की राजधानी दिल्ली में इसका भारतीय मुख्यालय स्थित है।

Leave a Reply